Saturday, December 3, 2022
spot_img

किसानों की समस्याओं का समाधान करना सरकार की प्राथमिकता…

मंत्री कृषि विभाग बिहार श्री सुधाकर सिंह कि अध्यक्षता में आज मीठापुर कृषि प्रक्षेत्र

पटना अवस्थित कृषि भवन के सभागार में ष्बिल्डींग पर्सपेक्टिव ऑफ एग्रीकल्चर कॉमोडिटी प्राईस फिक्सेशन इन बिहार विषय पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया।
माननीय मंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि राज्य के किसानों को उनके फसल उत्पादों के लिए बेहतर मूल्य दिलाने एवं फसल उत्पादों के विपणन में किसानों के समक्ष उत्पन्न हो रही चुनौतियों एवं समस्याओं का स्थायी समाधान करने के लिए पदाधिकारियों एवं विशेषज्ञों का विचार जानने हेतु इस बैठक का आयोजन किया गया। उन्होंने कहा कि किसानों की समस्याओं का समाधान करना सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने आगे बताया कि राष्ट्रीय स्तर पर किसान आन्दोलन के उपरान्त केन्द्र सरकार के स्तर पर कृषि उत्पादों के न्यूनतम समर्थन मूल्य से संबंधित नीतियों के निर्धारण हेतु उच्चस्तरीय समितियों का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि इन समितियों के समक्ष भी बिहार राज्य का पक्ष रखे जाने के लिए इस विषय से जुड़े विशेषज्ञों के विचार इस बैठक में लिए गये। उन्होंने आगे बताया कि भविष्य में भारत सरकार के स्तर से कृषि के क्षेत्र में लिये जाने वाले निर्णयों/नितियों के निर्धारण में बिहार राज्य की प्राथमिकताओं आवश्यकताओं को शामिल करने हेतु अनुरोध किया जायेगा।
उन्होंने निदेश दिया कि इस संबंध में एक उच्चस्तरीय कमिटी का गठन किया जाये, जो इस विषय का अधययन कर राज्य का पक्ष रखेगी। इस कमिटी के तहत अलग-अलग विषयों पर सब- कमिटियों का गठन किया जायेगा। जो इन विषयों से जुड़े विभिन्न बिन्दुओं पर डाटा संग्रहण और फिल्ड सर्वे के माध्यम से जानकारी एकत्र कर राज्य का पक्ष रखेगी।
इस बैठक में कृषि विभाग के विशेष सचिव-सह- निदेशक बावास श्री रवीन्द्रनाथ राय, कृषि निदेशक डॉ0 आदित्य प्रकाश] नाबार्ड के महाप्रबंधक श्री विनय सिन्हा] भारतीय रिजर्व बैंक] पटना के प्रतिनिधि] आद्री के निदेशक डॉ0 पी0 पी0 घोष] नाबार्ड के पूर्व निदेशक डॉ0 टी0 एन0 झा] ए0एन0सिन्हा इन्स्टीच्यूट ऑफ सोशल स्टडीज] पटना के सहायक प्रो0 अविरल पाण्डेय] डी0एम0आई0] पटना के सहायक प्रो0 श्रीधर टी0] बीसा के डॉ0 आर0 के0 जाट] बावास के उप निदेशक श्री सनत कुमार जयपुरियार सहित अन्य पदाधिकारीगण ने अपने विचार दिये।

पॉपुलर खबरें